Wednesday, September 28, 2022
HomeDharmshalaप्रदेश सरकार पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के...

प्रदेश सरकार पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत-सरवीन चौधरी 

प्रदेश सरकार पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत-सरवीन चौधरी 

 

  • महिला मन्डलों का हौसला बढ़ाने के लिये शगुन

इंडिया न्यूज, धर्मशाला (Dharamshala-Himachal Pradesh)

विकासखण्ड रैत में चले विभिन्न विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा को लेकर विकास खण्ड रैत के सभागार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी की अध्यक्षता में वीरवार को बैठक आयोजित की गई। बैठक में विकास खण्ड रैत के समस्त पंचायत सचिव, कनिष्ठ अभियंता, तकनीकी सहायक व प्रसार अधिकारी व कर्मचारियों ने भाग लिया। सरवीण चैधरी ने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारी अपने कर्तव्यों व अधिकारों का सजगता से निर्वहन करें, विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाने के साथ-साथ वे प्रदेश सरकार की समस्त कल्याणकारी योजनाओं को सूचीबद्ध कर अपने क्षेत्र के पात्र लोगों को अधिक से अधिक लाभान्वित करने में मदद करें।

बदलते परिवेश में पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारियों की जिम्मेदारियां भी बढ़ी

उन्होने कहा कि आज के बदलते परिवेश में पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारियों की जिम्मेदारियां भी बढ़ी हैं, प्रदेश सरकार द्वारा विकास कार्यों के लिए बजट का उचित प्रावधान किया गया है, इसलिए जनहित में दीर्घकालीन योजनाओं को प्रमुखता से क्रियान्वित करवाएं।

प्रदेश सरकार पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत

उन्होने कि प्रदेश सरकार पंचायती राज संस्थाओं को स्वावलम्बी, स्वायत्त तथा सुदृढ़ बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत है। पंचायती राज संस्थाओं को अनेक वित्तीय शक्तियां प्रदान की गई हैं। राज्य में पंचायती राज संस्थाओं का कम्पयूट्रीकरण किया जा रहा है तथा इन संस्थाओं में आवश्यक कर्मचारियों की उपलब्धता सुनिश्चित बनाई जा रही है ।

विभिन्न योजनाओं व परियोजनाओं की समीक्षा

बैठक में मुख्यमंत्री एक बीघा योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना,राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका योजना, स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण), पंचवटी पार्कों, मुख्यमंत्री लोक भवन योजना, मोक्ष धाम, पशुधन पुरस्कार योजना, गौ सदनों के निर्माण, सफलता की कहानियां, वाटरशेड योजना, पंचायत घरों, सामुदायिक भवनों के निर्माण, ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन तथा मुख्यमंत्री ग्राम कौशल योजना के अन्तर्गत किये जा रहे कार्यों की प्रगति की भी समीक्षा की गई। उन्होंने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत जिले में महिलाओं को स्वरोजगार अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने एवं आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य के साथ स्वयं सहायता समूहों के गठन पर बल दिया। ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों को पंचायत स्तर पर समग्र मनरेगा पर विशेष फोकस करने को कहा ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग लाभान्वित हो सकें।

महिला मंडलो को विधायक निधि से शगुन के रूप में चेक किये वितरित

इस अवसर पर सरवीण चैधरी ने रैत में 4 महिला मंडलों को विधायक निधि से शगुन के रूप में 10-10 हजार रुपये के चेक वितरित किए।

समस्याओं को सुना

उन्होंने इस अवसर पर रैत के लोगों की समस्याओं को सुना और अधिकतर का मौके पर ही समाधान किया। उन्होंने अधिकारियों को लोगों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए समयबद्ध हल करने के भी निर्देश दिये।

ये रहे उपस्थित

इस अवसर पर सुपरिटेंडेंट वीर सिंह, चेयरमैन विजय चैधरी, उपाध्यक्ष मोनी बाला, प्रधान लांझनी विपिन चैधरी, प्रधान बंडी अश्विनी चैधरी, घरोह के प्रधान तिलक शर्मा, सुधेड की रेखा, कल्याडा की संजना, उपप्रधान प्रधान योग राज चड्ढा, सक्रिय कार्यकर्ता मनु शर्मा सहित पंचायत के नुमाइंदे मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular