Sunday, November 27, 2022
HomeHamirpurSainik Award Ceremony in Hamirpur सेना को अपना परिवार मानते हैं पीएम...

Sainik Award Ceremony in Hamirpur सेना को अपना परिवार मानते हैं पीएम मोदी

- Advertisement -

Sainik Award Ceremony in Hamirpur सेना को अपना परिवार मानते हैं पीएम मोदी

  • हथियार लेने वाला नहीं, अब निर्यात करने वाला देश बनेगा भारत
  • केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के सैनिक सम्मान समारोह में की शिरकत

इंडिया न्यूज, हमीरपुर :

Sainik Award Ceremony in Hamirpur : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण, युवा मामले और खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना को अपना परिवार मानते हैं और सैनिकों से संबंधित हर मुद्दे पर त्वरित निर्णय लेते हैं। वह ऐसे एकमात्र प्रधानमंत्री हैं जो हर वर्ष बार्डर पर जाकर सैनिकों के साथ ही दीवाली मनाते हैं।

वे रविवार को हमीरपुर के निकटवर्ती गांव चौकी में सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के सैनिक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि देश की बागडोर संभालते ही मोदी ने दशकों से लंबित वन रैंक-वन पैंशन के लिए 55 हजार करोड़ रुपए जारी करके सैनिकों को बहुत बड़ी सौगात दी।

उन्होंने कहा कि देश और इसकी सेनाओं को मजबूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कई ऐतिहासिक निर्णय लिए हैं। सेना को आधुनिक हथियार मुहैया करवाने के साथ-साथ उन्होंने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत देश में ही हथियारों के निर्माण पर विशेष बल दिया है।

अभी तक देश में 22 कारखाने भी खोले जा चुके हैं। अनुराग ठाकुर ने कहा कि हिमाचल में भी बुलेट प्रूफ जैकेट का कारखाना लगने जा रहा है। प्रधानमंत्री की इस पहल से भारत की सैन्य ताकत ही नहीं बढ़ेगी, इससे भारत आर्थिक रूप से भी मजबूत होगा।

उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकारों ने हमेशा सैनिकों को सर्वोच्च सम्मान दिया है। कारगिल युद्ध के दौरान तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने पहली बार सभी शहीद सैनिकों के पार्थिव शरीर घर तक पहुंचाने की परंपरा शुरू की थी। पहले शहीदों के परिजन इन वीर सपूतों के अंतिम दर्शन भी नहीं कर पाते थे।

सेना में हिमाचल प्रदेश के योगदान की चर्चा करते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि इस छोटे से पहाड़ी राज्य की आबादी देश की कुल आबादी का केवल आधा प्रतिशत है लेकिन भारतीय सेना में हिमाचल का योगदान 4 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि विभिन्न युद्धों और सैन्य आपरेशनों में हिमाचल के शूरवीरों को 1,100 से अधिक वीरता पुरस्कार मिले हैं। यही कारण है कि हिमाचल को वीरभूमि के नाम से जाना जाता है।

इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने भी शहीदों, भूतपूर्व सैनिकों, सेवारत सैनिकों और उनके परिजनों को नमन करते हुए कहा कि उनके योगदान को देश कभी नहीं भुला सकता।

उन्होंने कारगिल युद्ध में शहीद हुए हिमाचल प्रदेश के कई जवानों की शहादत से संबंधित कई भावुकतापूर्ण अनुभव सांझा किए। समारोह के दौरान भूतपूर्व सैनिकों और उनके परिजनों को सम्मानित किया गया तथा 2 मिनट का मौन रखकर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

इस मौके पर प्रदेश भाजपा पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के संयोजक एवं जिला परिषद सदस्य कैप्टन रणजीत सिंह, भाजपा मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह ठाकुर और पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ संयोजक कैप्टन सुरेश कुमार ने भी अपने विचार रखे।

भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के कलाकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। समारोह में जिला भाजपा अध्यक्ष बलदेव शर्मा, कौशल विकास निगम के प्रदेश समन्वयक नवीन शर्मा और भाजपा के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे। Sainik Award Ceremony in Hamirpur

Read More : Kisan Sabha will make 80 Thousand Farmers Members किसान सभा का 80 हजार किसानों को सदस्य बनाने का लक्ष्य

Read More : Education Dialogue Program हिमाचल में शिक्षा क्षेत्र पर व्यय होंगे 8412 करोड़ रुपए

Connect With Us : Twitter | Facebook

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular