Sunday, November 27, 2022
Homeहिमाचल प्रदेशDeputy Commissioner Meeting किसान उत्पादक संगठनों को मिले विभागीय योजनाओं का लाभ

Deputy Commissioner Meeting किसान उत्पादक संगठनों को मिले विभागीय योजनाओं का लाभ

- Advertisement -

Deputy Commissioner Meeting किसान उत्पादक संगठनों को मिले विभागीय योजनाओं का लाभ

  • किसानों की आर्थिकी को सुदृढ़ बनाने के लिए विकास माडल किए जाएं तैयार
  • उपायुक्त ने कृषि सखी और स्वयं सहायता समूह को उत्पादक संगठनों के साथ जोड़ने के दिए निर्देश
  • कोल्ड स्टोरेज सुविधा के लिए विभाग उठाए आवश्यक कदम

इंडिया न्यूज, चम्बा :

Deputy Commissioner Meeting : केंद्रीय क्षेत्र योजना ‘किसान उत्पादक संगठन के गठन एवं संवर्धन’ के तहत जिला स्तरीय निगरानी समिति की बैठक का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता उपायुक्त दूनी चंद राणा ने की।

उन्होंने कहा कि चूंकि किसान उत्पादक संगठनों (FPO) की किसानों को उनकी पैदावार की एवज में बेहतर दाम उपलब्ध करवाने के लिए भूमिका महत्वपूर्ण है।

ऐसे में सभी संबंधित विभागों द्वारा किसानों की आर्थिकी को सुदृढ़ बनाने के लिए विकास माडल बनाए जाएं। उन्होंने यह निर्देश भी दिए कि विभिन्न विभागीय योजनाओं को एफपीओ के साथ जोड़ा जाना सुनिश्चित बनाया जाए ताकि एफपीओ को अपने व्यापार को और बेहतर बनाने में मदद मिल सके।

जिले में कृषि कार्यों के साथ संबंधित गतिविधियों में कार्यशील कृषि सखी और स्वयं सहायता समूह से संबंधित कार्यों की समीक्षा के दौरान उपायुक्त ने इन्हें भी किसान उत्पादक संगठनों के साथ जोड़ने के निर्देश दिए।

उपायुक्त ने समूह आधारित व्यापार संगठनों को और सशक्त बनाने के लिए जिले के प्रत्येक खंड स्तर पर कोल्ड स्टोरेज सुविधा की आवश्यकता पर जोर देते हुए संबंधित विभाग को आवश्यक कदम उठाने के निर्देश भी जारी किए।

बैठक में नाबार्ड के जिला विकास प्रबन्धक साहिल स्वांगला ने अगवत किया कि नाबार्ड द्वारा गठन किए गए 2 एफपीओ को सरकार द्वारा 6 लाख रुपए और 1.44 लाख रुपए की मिलान इक्विटी अनुदान के रूप में जारी की गई है।

जारी इक्विटी अनुदान का उपयोग किसान उत्पादक संगठन द्वारा प्राथमिक प्रसंस्करण, पैकेजिंग और मार्केटिंग के विकास के लिए किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि किसान उत्पादक संगठन को बैंक के माध्यम से मुख्यमंत्री कृषि कोष योजना, कृषि अवसंरचना कोष और पीएम फार्मलाइजेशन आफ माइक्रो फूड प्रोसेसिंग एंटरप्राइजेज के साथ जोड़ा जा रहा है।

उन्होंने यह भी बताया कि जिले में इस योजना के अंतर्गत 6 किसान उत्पादक संगठन के गठन एवं संवर्धन से संबंधित कार्य प्रगति पर है।

इसके तहत 3 संगठन राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (NABARD), 2 लघु कृषक-कृषि व्यापार संघ (SFAC) और 1 राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ लिमिटेड (NAFED) द्वारा बनाए जा रहे हैं।

इसके साथ 4 किसान उत्पादक संगठनों का कंपनी एक्ट के अंतर्गत गठन किया जा चुका है, जबकि 2 उत्पादक संगठन की प्रक्रिया जारी है।

इस बैठक में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी अमित मैहरा, उपनिदेशक कृषि कुलदीप धीमान, सहायक निदेशक पशुपालन विभाग डा. दिनेश, जिला प्रबंधक अग्रणी बैंक भूपेन्दर सिंह, सहायक पंजीयक सहकारिता एस संतोष कुमार, सचिव जिला मार्केटिंग कमेटी दीक्षित, बागवानी विस्तार अधिकारी अमिता अबरोल एवं दिव्या और कलस्टर आधारित व्यापार संगठनों (CBBO) के प्रतिनिधि मौजूद रहे। Deputy Commissioner Meeting

Read More : HP Government Accused of Espionage हिमाचल में हो रही विधायकों की जासूसी

Connect with us : Twitter | Facebook | Youtube

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular