Wednesday, September 28, 2022
Homeहिमाचल प्रदेशजीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा से अस्पताल से बाहर अति दुर्गम ग्रामीण...

जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा से अस्पताल से बाहर अति दुर्गम ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुंची स्वास्थ्य सेवाएं

इंडिया न्यूज़, Himachal News : प्रदेश के दुर्गम ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। स्वास्थ्य सुविधाओं को स्वास्थ्य संस्थानों की चारदीवारी से बाहर निकाल गांव-गांव व घर-घर तक पहुंचाने की दिशा में राज्य सरकार ने कई अभिनव पहल की हैं। इसमें दुर्गम व ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को घर द्वार पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं संभव हुई हैं।

पिछड़े क्षेत्रों तक स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने को प्राथमिकता प्रदान

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की संवेदनशील सोच एवं प्रदेश सरकार की सर्वस्पर्शी विकास की नीति को आत्मसात करते हुए दुर्गम क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाने के उद्देश्य से जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस स सेवा व मोबाईल मेडिकल यूनिट सेवा शुरू की गई है। इन सेवाओं के माध्यम से राज्य में पहली बार अति दुर्गम व स्वास्थ्य सुविधा से वंचित और पिछड़े क्षेत्रों तक स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने को प्राथमिकता प्रदान की जा रही हैं। जीवन धारा मोबाइल व एंबुलेंस सेवा में चिकित्सक व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ तैनात कर गांव-गांव व घर-घर मरीजों की जांच कर उनका उपचार सुनिश्चित किया है।

अन्य बीमारियों की जांच करने के साथ-साथ ओपीडी की सुविधा भी उपलब्ध करवाई

Himachal Jeevan Dhara mobile ambulance service

राज्य में यह पहला मौका था जब स्वास्थ्य सुविधाओं को मोबाइल हेल्थ यूनिटों के माध्यम से अस्पतालों की चार दीवारी से बाहर निकाल गांव तक पहुंचाया गया। जिसके लिए राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से लगभग 10 जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस तैनात की। इन मोबाइल मेडिकल यूनिटों के माध्यम से बी.पी., मधुमेह और कैंसर सहित अन्य बीमारियों की जांच करने के साथ-साथ ओपीडी की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जा रही है। स्वास्थ्य जांच के उपरांत मरीजों को बीमारी से संबंधित उपचार व दवाईयां भी उपलब्ध करवाई जा रही हैं।

दुर्गम क्षेत्रों में 2131 कैंप लगाए गए

आरम्भिक चरण में राज्य के 7 जिलों चंबा, कांगड़ा, कुल्लू, मंडी, शिमला, सिरमौर और सोलन के दुर्गम क्षेत्रों में जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। कांगड़ा, मंडी और शिमला जिला में दो-दो और चंबा, कुल्लू, सिरमौर और सोलन जिला में एक-एक जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस तैनात की गई है। इस सेवा के माध्यम से गत एक वर्ष के दौरान दुर्गम क्षेत्रों में 2131 कैंप लगाए गए। 86544 ओपीडी, एनसीडी यानि बी.पी. शुगर जैसी बीमारी से संबंधित 15588 मामलों की जांच, 1352 गर्भवती महिलाओं की जांच और विभिन्न बीमारियों से संबंधित 64440 टेस्ट इस सेवा के माध्यम से किए गए। जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा के माध्यम से अब तक कुल 104608 लोगों की ओपीडी जांच और 74273 विभिन्न प्रकार के लैबोरेटरी टैस्ट किए जा चुके है।

स्वास्थ्य सुविधाओं को ग्रामीण व दुर्गम क्षेत्रों में पहुंचाने का कार्य

कोविड-19 संकट के दौरान भी जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा ने बहुमूल्य मानव जीवन को बचाने के लिए बेहतरीन कार्य किया है। कोविड काल में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के दिशा-निर्देशानुसार स्वास्थ्य सुविधाओं को ग्रामीण व दुर्गम क्षेत्रों में पहुंचाने का कार्य जीवन धारा मोबाइल एंबुलेंस सेवा ने किया हैं। इस महामारी से बचाव के दृष्टिगत कोविड टीकाकरण, सामान्य बीमारों को उपचार सुविधा, घर-घर दवाईयों की पहुंच सुनिश्चित कर राज्य सरकार ने इस सेवा के द्वारा आम लोगों को सुविधा उपलब्ध करवाई है।

प्रदेश में 40 मेडिकल मोबाईल यूनिट व 10 डायलिसिस केंद्र शुरू किए

प्रदेश में किडनी के गंभीर रोगों से पीड़ित मरीजों को राहत प्रदान करने व ऐसे मरीजों को घर गांव में डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से उत्तराखंड राज्य की द हंस फाउडेशन धर्माथ ट्रस्ट के सहयोग से किडनी की बीमारी से ग्रस्त मरीजों को घर द्वार पर सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। जिसके लिए राज्य सरकार ने 5 जनवरी, 2022 को इस ट्रस्ट के साथ एमओयू हस्ताक्षरित कर प्रदेश में 40 मेडिकल मोबाईल यूनिट व 10 डायलिसिस केंद्र शुरू किए हैं, जिनमें किडनी की बीमारी के निःशुल्क उपचार की सुविधा उपलब्ध हैं। इस सेवा को मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर द्वारा राज्य में विधिवत रूप से 10 मार्च, 2022 को आरम्भ किया गया है।

मोबाईल मेडिकल वाहन गांव-गांव जाकर लोगों की निःशुल्क दवाइयाँ बाँट रहे हैं

प्रदेश में द हंस फाउडेशन धर्माथ ट्रस्ट के सहयोग से स्थापित किए जा रहे 10 डायलिसिस केंद्रों में जहां किडनी की बीमारी से ग्रस्त मरीजों को निःशुल्क सुविधा मिली है, वहीं मोबाईल मेडिकल वाहन गांव-गांव जाकर लोगों की निःशुल्क स्वास्थ्य जांच कर उन्हें दवाईयां भी उपलब्ध करवा रहे हैं। इन वाहनों में डॉक्टरों सहित स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करवाने वाली टीम तैनात की गई है। जिसमें एक डॉक्टर, एक तकनीशियन, एक फार्मासिस्ट व एक सामाजिक सुरक्षा अधिकारी तैनात किया गया हैं।राज्य के लोगों को घर द्वार पर स्वास्थ्य सुविधा मिले इसके लिए राज्य सरकार प्रयासरत है। जिसके लिए राज्य सरकार की ओर से हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें : शिमला में आरोपी को पकड़ने गई महिला कांस्टेबल पर हुआ हमला, दंपति ने दांतो से काटा

ये भी पढ़ें : आईफा अवॉर्ड 2022 इवेंट हो चूका है शुरू, बॉलीवुड की महान हस्तियां पहुंच रही यस आइलैंड

ये भी पढ़ें : जयराम सरकार द्वारा विद्यार्थियों को 41550 रूपये की कीमत वाले डेल कंपनी के लैपटॉप आवंटित, पूरी खबर पढ़ें

Connect With Us : Twitter | Facebook

Sachin
Sachin
Learner , Hardworking , Aquarius hu toh samajh lo kya kya hounga .....
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular