Friday, September 30, 2022
Homeहिमाचल प्रदेशशहीद की पत्नी ने की बेटे की नौकरी की मांग, कोई सुनवाई...

शहीद की पत्नी ने की बेटे की नौकरी की मांग, कोई सुनवाई नहीं

एक शहीद की पत्नी को अपने बेटे की नौकरी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। लेकिन सरकार की देखें तो उनकी बात सुनने वाला कोई भी नहीं है। एक मजबूर औरत फरियाद लेकर जगह-जगह घूम रही है,लेकिन उसकी बात सुनने वाला कोई भी नहीं है।

इंडिया न्यूज़, ज्वाली

एक शहीद की पत्नी को अपने बेटे की नौकरी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। लेकिन सरकार (Government) की देखें तो उनकी बात सुनने वाला कोई भी नहीं है। एक मजबूर औरत फरियाद लेकर जगह-जगह घूम रही है, लेकिन उसकी बात सुनने वाला कोई भी नहीं है।

शहीद की पत्नी की नहीं कोई सुनवाई

उपमंडल ज्वाली (Subdivision Jwali) के अधीन पंचायत राजोल (Rajol) में शहीद भीमसेन (Shaheed Bhimsen) की पत्नी रेखा देवी व माता मंगलवार को कोटला (Kotla) में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (Chief Minister Jai Ram Thakur) से मिली लेकिन उनको वहां से भी आश्वासन ले इलावा कुछ नहीं मिला है।

शहीद की पत्नी ने बेटे की नौकरी की गुहार लगाई

आपको बता दे की रेखा देवी के पति भीमसेन असम राइफल (Assam Rifles) में राइफलमैन (rifleman) की ड्यूटी पर थे। वे वर्ष 2002 में मणिपुर (Manipur) में माओवादियों (Maoists) से लड़ते हुए शहीद हो गए। हिमाचल की सरकार ने उनकी कोई पूछ नहीं की। रेखा देवी का कहना है की मेरा बेटा 60 प्रतिशत अपंग है और मैं उससे नौकरी दिलाने की मांग कर रही हूँ। मुख्यमंत्री (Chief Minister) बार-बार मिलते हैं,लेकिन आश्वासन ही मिलता है।

ये भी पढ़ें: पुलिस पेपर लीक मामले को लेकर हिरासत में सचिवालय कर्मचारी

ये भी पढ़ें: जयराम ठाकुर ने प्रधानमंत्री को दिया हिमाचल आने का आमंत्रण

ये भी पढ़ें: हिमाचल में 16 मई तक मौसम साफ़ रहने की संभावना

Connect With Us : Twitter | Facebook

Sachin
Sachin
Learner , Hardworking , Aquarius hu toh samajh lo kya kya hounga .....
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular