Wednesday, October 5, 2022
Homeहिमाचल प्रदेशहिमाचल में पुलिस भर्ती प्रक्रिया पर फिर उठे सवाल

हिमाचल में पुलिस भर्ती प्रक्रिया पर फिर उठे सवाल

हिमाचल में पुलिस भर्ती प्रक्रिया पर फिर उठे सवाल

  • दस्तावेज जांच के दौरान 3 अभ्यर्थियों के साथ एक अन्य अरेस्ट

इंडिया न्यूज, धर्मशाला।

हिमाचल प्रदेश में हुई पुलिस भर्ती (Police Recruitment in Himachal Pradesh) प्रक्रिया एक बार फिर से सवालों के घेरे में आ गई है। दरअसल कांगड़ा पुलिस (Kangra Police) ने इस पूरी भर्ती प्रक्रिया के पूरे हो जाने के आखिरी चरण में गगल पुलिस थाने (Gagal Police Station) में धारा 420 और 120 बी के तहत मामला दर्ज करते हुए इस बात का संकेत दे दिया है कि इस भर्ती प्रक्रिया में बड़े स्तर पर गड़बड़झाला हुआ है।

इतना ही नहीं, पूरे मामले में पुलिस ने फिलहाल 3 अभ्यर्थी युवकों और एक उस शख्स को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है जिसने इन युवकों का दिल्ली और हरियाणा में बैठे शातिरों के साथ मिलान करवाया था और इस पूरे वाक्या को अंजाम दिया था।

जानकारी के मुताबिक, प्रदेश में 1,334 पुलिस पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया का संचालन किया गया था जिसके लिए 27 मार्च को ली गई इस भर्ती की लिखित परीक्षा (Police Recruitment Written Exam) का परिणाम 5 अप्रैल को घोषित किया गया था।

परिणाम की घोषणा के बाद जब उनके मूल दस्तावेजों (the original document) के मिलान का कार्य चल रहा था, इसी बीच पुलिस को कुछ युवकों के दस्तावेजों पर संदेह हुआ कि उनके मैट्रिक में 50 फीसदी से कम अंक हैं, जबकि पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा में इन्होंने 90 में से 70 अंक हासिल किए हैं जिस पर पुलिस ने उनके साथ सख्ती से पूछताछ की तो खुलासा हुआ कि युवकों ने पहले ही प्रश्न-पत्र हासिल कर लिए थे और उनके जवाब रट रखे थे।

सवाल ये उठता है कि इन सभी को यह कैसे पता चला कि पेपर कहां पर छापे गए हैं और इन तक कैसे पहुंचे! इन सभी ने किस व्यक्ति के माध्यम से पैसों का भुगतान किया है, क्या वो पकड़ में आएगा।

दूसरी ओर सरकार ने हिमाचल पुलिस कांस्टेबल भर्ती की लिखित परीक्षा (Himachal Police Constable Recruitment Written Exam) रद कर दी है। अब यह परीक्षा इसी माह के अंत तक फिर से करवाई जाएगी।

पेपर लीक (paper leak) करने वाले आरोपी हरियाणा और दिल्ली से हैं। 4 को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में मुनीष कुमार पुत्र अशोक कुमार निवासी देव भराड़ी, डाकघर सुल्याली, तहसील नूरपुर, जिला कांगड़ा, मनी चौधरी पुत्र बीरवल सिंह निवासी गांव व डाकघर खटियाड़, तहसील फतेहपुर, जिला कांगड़ा, गौरव पुत्र विजय कुमार गांव व डाकघर भडियाड़ा, तहसील व जिला कांगड़ा और अशोक कुमार पुत्र हरि सिंह गांव व डाकघर पास्सू, तहसील धर्मशाला, जिला कांगड़ा हैं। सरकार ने पेपर लीक की जांच के लिए एसआईटी बनाई गई है जिसके प्रमुख डीआईजी सैंट्रल रेंज मधुसूदन (DIG Central Range Madhusudan) होंगे। हिमाचल में पुलिस भर्ती प्रक्रिया पर फिर उठे सवाल

Read More : पूर्व दूरसंचार मंत्री पंडित सुखराम को ब्रेन स्ट्रोक

Read More : गुणात्मक सुधार के लिए योजनाबद्ध आर्थिक विकास आवश्यक: भारद्वाज

Read More : रैनसरी में पशु औषधालय व सामुदायिक भवन का लोकार्पण

Read More : यूजीसी से ग्रांट बंद होने पर भी सीयू धर्मशाला में बंद नहीं होंगे वोकेशनल कोर्स

Connect With Us : Twitter | Facebook

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular