Monday, October 3, 2022
Homeहिमाचल प्रदेशजरूरतमंद एवं गरीब लोगों का कल्याण हिमाचल सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता: जयराम...

जरूरतमंद एवं गरीब लोगों का कल्याण हिमाचल सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता: जयराम ठाकुर

जरूरतमंद एवं गरीब लोगों का कल्याण हिमाचल सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता: जयराम ठाकुर

इंडिया न्यूज, Dharamshala (Kangra, Himachal Pradesh)।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (Jai Ram Thakur) ने शुक्रवार को जिले के चम्बी (Chambi) में त्रिदेव सम्मेलन (tridev sammelan) के अवसर पर जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार (Himachal government) ने स्वास्थ्य और सामाजिक कल्याण क्षेत्र को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की है।

पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान वृद्धावस्था पेंशन का लाभ प्राप्त करने के लिए आयु सीमा 80 वर्ष निर्धारित की गई थी। वर्तमान प्रदेश सरकार ने पद्भार ग्रहण करने के पश्चात मंत्रिमंडल की पहली बैठक में वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया।

उन्होंने कहा कि अब वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा को घटाकर 60 वर्ष कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की महिलाएं परिवार व समाज को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के संकट के दौर में महिलाओं ने लोगों की सुविधा के लिए कपड़े से बने लाखों मास्क उपलब्ध करवाकर सराहनीय भूमिका निभाई।

उन्होंने कहा कि चम्बा में आयोजित राज्य स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह के अवसर पर की गई घोषणाओं को भी पूरा कर दिया है। अब प्रदेश में हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में यात्रा करने पर महिलाओं से 50 प्रतिशत किराया ही लिया जाएगा। इस निर्णय को मंत्रिमंडल ने स्वीकृति प्रदान कर दी है।

मुख्यमंत्री ने महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना का विवरण देते हुए कहा कि प्रदेश में इस योजना के लाभार्थियों को 154 करोड़ से अधिक की वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने आयुष्मान भारत योजना से छूटे हुए परिवारों को कवर करने के लिए मुख्यमंत्री हिमाचल हेल्थ केयर योजना शुरू की है।

उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत 218 करोड़ रुपए व्यय कर 2.40 लाख लोगों को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में शुरू की गई प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत 1.37 लाख से अधिक परिवारों को शामिल किया गया है, जबकि मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना से 3.31 लाख परिवार लाभान्वित हुए हैं।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश देश का पहला चूल्हा धुआंमुक्त राज्य बन गया है। प्रदेश के प्रत्येक घर में आज एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध हैं। मंत्रिमंडल ने ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की मुफ्त आपूर्ति और मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के लाभार्थियों को 2 एलपीजी सिलेंडर भी मुफ्त देने को मंजूरी दी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य देखभाल को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए वर्ष 2019 में गंभीर रोगों से पीड़ित मरीजों की देखभाल के लिए मुख्यमंत्री सहारा योजना शुरू की गई है।

इस योजना के अंतर्गत अब तक गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 17,989 मरीजों को 60.50 करोड़ की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने कांगड़ा हवाई अड्डे पर केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी का स्वागत किया।

इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी, वन मंत्री राकेश पठानिया, सांसद किशन कपूर व इंदु गोस्वामी, सांसद व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप, विधानसभा उपाध्यक्ष डा. हंसराज, कांगड़ा व चम्बा जिले के विधायक, प्रदेश भाजपा प्रभारी अविनाश राय खन्ना, भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री पवन राणा व भाजपा के प्रदेश महासचिव त्रिलोक कपूर और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन जागरूकता कार्यक्रम का किया शुभारंभ

यह भी पढ़ें : एचपी सीएम ने कुल्लू जिले के पतलीकुहल में 6 विकासात्मक परियोजनाओं के किए शिलान्यास

Connect With Us : Twitter | Facebook

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular