Saturday, February 4, 2023
HomeMandiमंडी में मनाया गया काशी महोत्सव, दिखी मंडी की समृद्ध संस्कृति की...

मंडी में मनाया गया काशी महोत्सव, दिखी मंडी की समृद्ध संस्कृति की झलक

- Advertisement -

मंडी में मनाया गया काशी महोत्सव, दिखी मंडी की समृद्ध संस्कृति की झलक

  • पारम्परिक व्यंजनों के लगाए गए स्टाॅल
  • प्रदर्शनियां बनी आकर्षण का केंद्र
  • हेरिटेज वाॅक का भी आयोजन

इंडिया न्यूज, मंडी (Mandi-Himachal Pradesh)

मण्डी के सेरी मंच पर शनिवार को स्माईल हिमाचल संस्था द्वारा छोटी काशी महोत्सव का आयोजन किया गया। इस महोत्सव का शुभारंभ एसडीएम सदर रितिका जिंदल (sdm sadar ritika jindal) ने किया।

उन्होंने कहा कि छोटी काशी महोत्सव (chotti kashi festival) का आयोजन जिला मण्डी की प्राचीन परंपरा, संस्कृति व विरासत को सहेजने के उद्देश्य लिए किया गया। यह महोत्सव तीन साल के बाद मनाया गया।

पहले इसे प्रत्येक वर्ष मनाया जाता था परन्तु कोरोना (corona) के कारण यह पिछले कुछ वर्षों से आयोजित नहीं किया गया था।

महोत्सव में संगीत सदन मण्डी (sangeet sadan mandi) द्वारा सोलह संस्कार व लूड्डी, कृष्णा वूल उघोग द्वारा मण्डी की संस्कृति को दर्शाता फैशन शो, सिराज स्टुडैन्ट वैलफेयर ऐसोसिएशन द्वारा सिराजी नाटी (siraji nati by siraj student welfare association) प्रस्तुत की गई।

पारम्परिक व्यंजनों के लगाए गए स्टाॅल

भारतीय सांस्कृतिक निधी (इन्टैक) द्वारा सेरी में मंडी के प्राचीन व पारम्परिक पकवानों का स्टाल भी लगाया गया। इस स्टाल में भटाबरू, घयोर, ठण्स्सया (दंद कड़ाका), सगोती, लाड्डू, चुड़ का साग, कत्तीरे गोंदा रा फलूदा, भल्ले बाबरू आदि व्यंजन प्रर्दशित किए गए। स्थानीय जनता ने इन व्यंजनों का लूफ्त उठाया और बताया की इस व्यंजनो में से कुछ ऐसे भी हैं जो उन्होंने पहली बार चखे और उन्हें बहुत स्वादिष्ठ लगे।

उन्होंने बताया कि समय के साथ इन व्यंजनों को भुला दिया गया है परन्तु ऐसे कार्यक्रम से हमें अपनी परम्परा को जानने और सहेजने का मौका मिलता है।

प्रदर्शनियां बनी आकर्षण का केंद्र

इसके साथ ही राजेश कुमार द्वारा बनाई गई मण्डी कलम पर आधारित पेंटिंग प्रदर्शनी व हिमाचल दर्शन फोटो गैलरी एक झलक द्वारा विभिन्न छायाचित्रों को भी प्रदर्शित किया गया।साथ ही लोगों को ब्लैसिंग हैंडलूम ज्वैलरी व पहाड़ी भाषा की टांकरी लिपि से अवगत कराने के लिए प्रदर्शनी लगाई गई।

हेरिटेज वाॅक का भी आयोजन

छोटी काशी महोत्सव के बाद हेरिटेज वाॅक (heritage walk at mandi) का भी आयोजन किया गया, जो सेरी मंच, अर्धनारिश्वर मन्दिर, विक्टोरिया पुल होते हुए पंचवक्त्र मंदिर तक निकाली गई।

वाॅक में एसडीएम सदर रितिका जिंदल, तहसीलदार एवं अतिरिक्त पर्यटन अधिकारी विजय वर्धन, आईएएस प्रोबेशनर ईशान्त जसवाल और नेत्रा मेती, जिला भाषा अधिकारी प्रोमिला गुलेरिया, स्माईल हिमाचल संस्था के संस्थापक निखिल वालिया, सिराज स्टूडेंट वैलफेयर ऐसोसिएशन सहित एनएसएस की छात्राओं व मण्डी शहर के निवासियों ने भाग लिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular