Wednesday, October 5, 2022
HomeSirmaurरिजर्व फोरेस्ट में काट डाले देवदार के 31 पेड़

रिजर्व फोरेस्ट में काट डाले देवदार के 31 पेड़

रिजर्व फोरेस्ट में काट डाले देवदार के 31 पेड़

  • वन विभाग ने कब्जे में लिए 143 स्लीपर
  • जांच में जुटा सरकारी अमला
  • वन विभाग ने मंदिर से बरामद किए देवदार के 143 नग
  • पेड़ काटने वालों का पता लगाने के लिए तहकीकात जारी

रमेश पहाड़िया, नाहन।

वन परीक्षेत्र संगड़ाह के अंतर्गत आने वाले आरक्षित वन कजवा में अज्ञात वन काटुओं ने देवदार के 31 पेड़ों का अवैध कटान कर डाला।

जानकारी के अनुसार विभाग की टीम द्वारा कजवा गांव के मंदिर से देवदार (deodar) के 143 छोटे नग अथवा कड़ियां बरामद किए जा चुके हैं। सूत्रों के अनुसार विभाग द्वारा गुप्त सूचना के आधार पर यह कार्रवाई की गई और अज्ञात लोगों के खिलाफ डीआर काटी जा चुकी है।

बताया जा रहा है कि लकड़ी गांव में मंदिर निर्माण (temple construction) के लिए काटी गई है, हालांकि तहकीकात जारी है। जानकारी के अनुसार वन काटुओं द्वारा पिछले कई दिनों से देवदार के पेड़ों पर कुल्हाड़ी अथवा कटर चलाए जा रहे थे।

काफी अरसे बाद क्षेत्र में एक साथ इतने पेड़ों के अवैध कटान का मामला सामने आया है और ज्यादातर पेड़ छोटे हैं। आरओ संगड़ाह विद्यासागर ने बताया कि मंदिर से बरामद देवदार के 143 के करीब नग का वोल्यूम 6 क्युविक मीटर से ज्यादा है।

उन्होंने कहा कि रिजर्व फोरेस्ट कजवा में देवदार के कुल 31 छोटे-बड़े पेड़ कटे हुए पाए गए। विभाग द्वारा 407 ट्रक व पिकअप के माध्यम से जहां कुछ नग अथवा कड़ियां बुधवार देर रात संगड़ाह रेंज कार्यालय लाए गए, वहीं अन्य कड़ियां खबर लिखे जाने तक 2 अन्य पिकअप गाड़ियों से लाई जा रही थीं।

जागरूकता के अभाव में भी क्षेत्र के विभिन्न गांवों में लोग मंदिरों अथवा आस्थास्थलों के लिए बिना अनुमति के देवदार के पेड़ों का अवैध कटान (illegal felling of trees) भी करते हैं और ऐसा करना गलत नहीं मानते।

डीएफओ रेणुकाजी (DFO Renukaji) उर्वशी ठाकुर ने कजवा से देवदार की लकड़ी बरामद होने की पुष्टि करते हुए कहा कि मामले की छानबीन जारी है और आरओ से अधिकारिक रिपोर्ट आना बाकी है।

उन्होंने कहा कि विभाग की टीम आरक्षित वन क्षेत्र से लकड़ी काटने वालों का पता लगाने में जुटी है।

Read More : पर्यावरण संबंधी संवैधानिक कानूनों व अधिकारों से करवाया अवगत

Read More : हिमाचल सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाएं कामगार

Connect With Us : Twitter | Facebook

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular